Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

Fatehpur : फतेहपुर में धाता क्षेत्र के विजयीपुर में हत्या, लूटपाट, डकैती, जमीनों पर कब्जा, अपहरण, फिरौती जैसे जघन्य अपराध करने वाले एक दस्यु ने शिक्षा के मंदिर पर भी कब्जा किया था. यमुना कटरी समेत अन्य जिलों में आतंक का उदाहरण रहे दस्यु सरगना ने करीब पांच साल तक स्कूल का संचालन भी किया, इसके बाद प्रशासन ने बुधवार को करीब 50 साल पहले की आबादी की जमीन पर बने उसी स्कूल की इमारत को जमींदोज कर दिया.

जानकारी के मुताबिक, किशुनपुर थाना क्षेत्र के मड़ौली गांव में सुरक्षित भूमि पर बने निजी जूनियर हाईस्कूल की चहारदीवारी और एक कमरे को बुलडोजर से ढहवाते हुए तहसील प्रशासन ने करीब एक बीघा भूमि ग्राम पंचायत को सौंप दी है.

यह है पूरा मामला

क्षेत्र में बीहड़ इलाके के मडौली गांव में 1970 के आस-पास क्षेत्र के युवाओं को शिक्षित करने के लिए गांव के विजयपाल सिंह (Vijay Pal Singh) ने आबादी की जमीन में एक स्कूल का संचालन शुरू किया था. बच्चों की संख्या अधिक हुई तो सन 1984-85 में जनता जूनियर हाई स्कूल मंडौली के नाम की मान्यता मिल गई. क्षेत्र का इकलौता जूनियर कालेज होने की वजह से हजारों की संख्या में यहाँ बच्चे पढ़ने लगे. 2001 में दस्यु उमर केवट ने विद्यालय पर कब्जा कर लिया और करीब 5 साल तक स्कूल का संचालन करता रहा. पुलिस मुठभेड़ में दस्यु उमर केवट की मौत के बाद स्कूल को पहाड़पुर के पूर्व प्रधान सदाशिव यादव (Sada Shiv Yadav) ने खरीद लिया. उसी के आस-पास कुछ और भूमि खरीदकर सदाशिव यादव ने स्कूल को इंटर कालेज का रूप दे दिया, जिसे 2014-15 में इंटर की मान्यता भी मिल गई. गांव के लोगों ने आबादी की जमीन में स्कूल बना होने की शिकायत की.

इस पर अदालत ने ग्राम समाज की जमीन को खाली कराने का आदेश दिया था. कार्रवाई में तहसीलदार ईवेंद्र कुमार मय राजस्व टीम, सीओ थरियांव प्रगति यादव, एसओ किशनपुर संजय तिवारी, एसओ असोथर नीरज यादव, एसओ धाता आशुतोष सिंह भारी पुलिस बल एवं एक कंपनी पीएसी साथ मौजूद रहे.

पक्ष सुने बिना ढहा दिया विद्यालय

श्यामसखी इंटर कालेज के प्रबंधक सदाशिव यादव ने बताया कि, 50 वर्ष पुराने विद्यालय की शिकायत के बाद अदालत ने बेदखली का आदेश दिया था. बेदखली के आदेश पर आपत्ति जताते हुए उन्होंने अपना पक्ष सुनाने की याचना की थी. न्यायालय ने आगामी 27 जून को पक्ष सुनने के लिए मौका भी दिया था. तहसील प्रशासन ने उनका पक्ष सुने बिना ही जूनियर विद्यालय के भवन को ढहा दिया.

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published.