Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

Fatehpur : फतेहपुर में अचानक से गड़बड़ी के मामले को लेकर चर्चा में आए आभा ब्लड बैंक (Aabha Blood Bank) पर अब निरस्तीकरण की तलवार लटकने लगी है. बता दें कि, एक दिन पूर्व डीआई द्वारा की गई छापेमारी के दौरान ब्लड बैंक में तमाम खामियां मिली थीं. जिसकी रिपोर्ट, बनाकर उन्होंने मुख्यालय लखऊन में सौंप दी है. माना जा रहा है कि मिली खामियों के हिसाब से ब्लड बैंक का लाइसेंस निरस्त हो सकता है.

लखनऊ एसटीएफ (Lucknow STF) द्वारा ब्लड बैंक के हुए खुलासे के बाद जहां ब्लड बैंक संचालक सतर्क हो गए हैं, वहीं अब अफसर भी हरकत में आ गए हैं. डीआई विनय कृष्ण यादव (DI Vinay Krishna Yadav) ने रविवार को आभा ब्लड बैंक में छापेमारी की थी. इस दौरान ब्लड बैंक में एसओपी (SOP) नहीं मिली थी. बताया कि एसओपी में ब्लड बैंक में काम करने वाले कर्मचारियों, ब्लड डोनेटर के लिए महत्वपूर्ण बातों का उल्लेख होता है. जो कि कई चार्ट, पोस्टर के माध्यम से उन्हें जानकारी दी जाती है. इस तरह का ब्लड बैंक में कोई चार्ट या पोस्टर नहीं मिला था.

इसके अलावा कैलीब्रेशन की रिपोर्ट संचालक नहीं दिखा सके थे. इसमें ब्लड बैंक में लगने वाली मशीनों के मेंटीनेंस के लिए किसी कंपनी को टेंडर देना होता है जो समय-समय पर पहुंचकर मशीनों की देख-रेख कर सके. इसके अलावा कई ब्लड बैग्स में वैलिट डेट भी नहीं छपी थी. इसे देख हुई आशंका पर डीआई ने रिपोर्ट बनाकर मुख्यालय के लिए रवाना कर दी है.

सूत्रों की मानें तो अब ब्लड बैंक में निरस्तीकरण की तलवार लटक चुकी है. इतना ही नहीं इसका निरस्तीकरण (Cancellation) भी तय माना जा रहा है.

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published.