Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

विकास दुबे (Vikas Dubey) और विक्रम जोशी (Vikram Joshi) वाला मामला अभी शांत हुआ भी नहीं था की अब यूपी (UP) से गुनाह की एक और खबर सुनने को मिली. खबर है एक लड़के संजीत कुमार (28) की जिससे करीब 1 महीने पहले सुनसान रात में अगवा कर लिया गया. जाहिर सी बात है फिरौती भी मांगी गयी करीब 30 लाख रूपये की.

आमतौर पर परिवार वालों के अगवा होने पर फिरौती दे दी जाती है. इस मामले में भी फिरौती दी गयी. परिवार को बेटा वापिस चाहिए था. पुलिस ने नसीहत दी कि फिरौती की रकम दे दी जाये कोई न कोई लेने आएगा और हम उसे पकड़ लेंगे. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. बल्कि वो पैसों से भरा बैग पानी में फिकवा दिया गया. अब परिवार को आस थी की संजीत वापिस आ जायेगा. लेकिन आज सुबह एक खबर ने अचानक इस परिवार को बिखेर कर रख दिया जब पता चला कि संजीत की लाश एक नदी में मिली है.

संजीत के माँ और बहन का आरोप है की इन सबमें पुलिस वालों का बहुत बड़ा हाथ है. उनकी लापरवाही की वजह से ही आज संजीत उनके साथ नहीं है. परिवार ने ये तक कहा है की पुलिस वाले भी इस पूरी प्लानिंग में किडनैपर्स के साथ थे. उन्हीं के दबाव बनाये जाने के बाद फिरौती की रकम किडनैपर्स तक पहुंचाई गयी थी.

ये भी पढ़ें गाजियाबाद में पत्रकार विक्रम जोशी को हमलावरों ने मारी थी सरेआम गोली, अस्पताल में इलाज के दौरान तोड़ा दम

लैब टेक्नीशियन के रिश्तेदार का दावा है कि उन्होंने अपहरणकर्ताओं को 30 लाख रुपये की फिरौती दी है. लेकिन आईजी कानपुर रेंज मोहित अग्रवाल का कहना है कि अब तक की जांच के अनुसार हमने पाया कि कोई फिरौती की राशि नहीं दी गई है, फिर भी हम सभी एंगल से मामले की जांच कर रहे हैं. बता दें की इस मामले में पुलिस ने अभी तक 5 लोगों को गिरफ्तार किया है जिनमें से 2 संजीत के करीबी दोस्त है.

कब क्या हुआ था-
22 जून की रात हॉस्पिटल से घर आने के दौरान संजीत का अपहरण हुआ.

23 जून को परिजनों ने जनता नगर चौकी में उसकी गुमशुदगी की तहरीर दी.

29 जून को अपहरणकर्ता ने संजीत के परिजनों को 30 लाख की फिरौती के लिए फोन किया.

5 जुलाई को परिजनों ने शास्त्री चौक पर जाम लगाकर पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया

13 जुलाई को परिजनों ने फिरौती की रकम 30 लाख से भरा बैग गुजैनी पुल से नीचे फेंक दिया, लेकिन फिर भी संजीत नहीं आया.

14 जुलाई को परिजनों ने एसएसपी और आईजी रेंज से शिकायत की, जिसके बाद संजीत को 4 दिन में ढूंढने का भरोसा दिया गया

16 जुलाई को बर्रा इंस्पेक्टर रंजीत राय को सस्पेंड कर सर्विलांस सेल प्रभारी हरमीत सिंह को चार्ज दे दिया गया.

और आखिर में आज 24 जुलाई को संजीत की मौत की खबर आई

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *