Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

New delhi : नया साल शुरु होने में अब केवल एक दिन का ही समय बाकी है. आप इस नए साल पर अपनी बेटी या बहन को डाकघर की स्कीम सुकन्या समृद्धि योजना का तोहफा दे सकते हैं. डाकघर की सुकन्या समृद्धि योजना के तहत बेटियों को कई तरह के लाभ मिलते हैं. डाकघर की इस योजना को खास तौर पर बेटियों के बेहतर भविष्य को सुनिश्चित करने के लिए बनाया गया है. आप एक पिता या एक भाई के तौर पर अपनी बेटी या बहन के लिए इस योजना में उसका खाता खुलवा सकते हैं. डाकघर के तहत नौ छोटी बचत योजनाओं का संचालन किया जाता है. डाकघर की इन छोटी बचत योजनओं में से एक सुकन्या समृद्धि योजना भी है.

आप डिपॉजिट (Deposit) की बेहद छोटी रकम से इस योजना में अकाउंट (Account) खुलवा सकते हैं. डाकघर की बचत योजनाओं में निवेशक को अपने जमा पर बेहतर ब्याज दर के साथ सरकारी सुरक्षा भी मिलती है. इसके अलावा आपको टैक्स बेनिफिट (Tax benifit) भी मिलता है. बेटियों के उज्ज्वल भविष्य को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से सरकार के द्वारा साल 2014 में सुकन्या समृद्धि योजना को शुरू किया गया था.

आइये जानते हैं डाकघर की इस स्कीम की पूरी डिटेल के बारे में.

कौन खुलवा सकता है अकाउंट

डाकघर की सुकन्या समृद्धि योजना में, उस बालिका का जिसकी उम्र 10 साल से कम है उसके अभिभावक की तरफ से अकाउंट खुलवाया जा सकता है. भारत में डाकघर या किसी भी बैंक में बालिकाओं के नाम पर केवल एक अकाउंट ही खोला जा सकता है.

क्या है जमा करने की रकम

डाकघर की सुकन्या समृद्धि योजना में कोई भी कम से कम 250 रुपये सालाना से अपना निवेश शुरू कर सकता है. पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में जमा कराने की अधिकतम राशि 1.5 लाख रुपये सालाना है. अगर आप अपनी बेटी या बहन के कम उम्र में ही इस योजना में निवेश शुरू करते हैं तो आप इसमें 15 सालों तक पैसा जमा कर सकते हैं.

कितना है ब्याज

डाकघर की आधिकारिक वेबसाइट से लिए गए आंकड़ों के अनुसार सुकन्या समृद्धि योजना में आपको सालाना 7.6 फीसद ब्याज दर का फायदा प्राप्त होता है. मिलने वाले ब्याज को हर एक वित्तीय वर्ष के आखिर में खाते में डिपॉजिट कर दिया जाता है. डाकघर इस स्कीम में मिलने वाला ब्याज इनकम टैक्स अधिनियम के तहत कर से मुक्त है.

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published.