Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

शकुंतला देवी (Shakuntala Devi) सुनकर अभी भले आपके मन में बस विद्या बालन (Vidya Balan) का नाम आ रहा हो लेकिन असली शकुंतला देवी भी कुछ कम नहीं थी वो न सिर्फ एक गणितज्ञ बल्कि ज्योतिषी, लेखिका और बांसुरी वादक भी थीं. मैथ्स की हर प्रॉब्लम को चुटकियों में सोल्व करने वाली शकुंतला कब इतनी उचाईयों पर पहुँच गयी किसीको पता ही नहीं चला. उन्होंने भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया. आमतौर पर हमारे देश में ये अवधारणा है कि लड़कियां मैथ्स में हमेशा कमजोर होती हैं लेकिन शकुंतला देवी ने गणित में नए मुकाम हासिल किये.

शकुंतला देवी की प्रतिभा का पता उनके पिताजी को 3 साल की उम्र चल गया था, जब वो अपने पिताजी के साथ बैठकर ताश खेल रही थी. शकुंतला के पिता ने देखा की ये बिलकुल नार्मल नहीं था की एक 3 साल की बची इस कदर इतनी जल्दी नंबर याद कर सके. जैसे जैसे वो बड़ी होती गईं उन्होंने नंबर्स सोल्व करना शुरू कर दिया। आस पास के बड़े बच्चे भी उनकी मदद मांगने अक्सर उनके घर आ जाया करते थे इसी तरह शकुंतला देवी आस पास के इलाकों में मशहूर होने लगी.

बहुत कम लोगों को पता है की रूस और चीन छोड़कर वो दुनिया का हर देश घूम चुकी हैं. शकुंतला BBC को दिए अपने एक इंटरव्यू में बताती हैं की उनके पिताजी सर्कस में काम करते थे और वो कभी स्कूल नहीं गयी लेकिन फिर भी वो गणित के हर सवाल को पलक झपकते सोल्व कर लेती हैं. उन्होंने बताया की वो इंग्लिश और तमिल जैसी भाषाएं भी लिख, बोल और पढ़ सकती हैं.

गणितज्ञ भी ऐसी कि उन्होंने 13 अंक वाले दो नंबरों का गुणा केवल 28 सेकंड में बता कर 1982 में अपना नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स’ में दर्ज करा लिया था. उनकी ज्योतिष विद्या से अपने भविष्य की राह तलाशने के लिए बड़े-बड़े नेता उनसे सलाह लेते थे और वैज्ञानिक उनकी क्षमता को समझने के लिए सवालों की झड़ी लगा देते थे.

शकुंतला देवी वो महिला थी जो कंप्यूटर से भी तेज सवालों को हल कर देती थीं. अमरीका में 1977 में शकुंतला ने कंप्यूटर से मुक़ाबला किया. 188132517 का घनमूल बता कर शकुंतला देवी ने जीत हासिल की. उन्होंने 13 अंक वाले दो नंबरों का गुणन केवल 28 सेकंड में बता कर 1982 में अपना नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स’ में दर्ज करा लिया था.

भगवान में भरोसा रखने वाली शकुंतला अपनी इस प्रतिभा को भगवान की देन मानती थी. उन्होंने अपने इस हुनर का प्रदर्शन दुनिया भर के कॉलेज, थिएटर, रेडियो और टेलीविज़न शो पर भी किया.

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *