Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

Kanpur : कोरोना (Corona) के बढ़ते प्रभाव के चलते लोग कोरोना की जाँच करवाने के लिए इधर उधर घूमते नजर आते है. कोरोना संक्रमण की जांच के लिए अब आपको अस्पतालों और पैथोलाजी के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे और न ही सैंपल देने के बाद रिपोर्ट के लिए 24 से 36 घंटे इंतजार भी नहीं करना पड़ेगा क्योंकि घर बैठे अब आप कोरोना की जांच कर सकते है.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) ने होम बेस्ड एंटीजन जाँच को मंजूरी दे दी है. इसके जरिए, आप घर बैठे अपनी कोरोना जांच कर सकते हैं.

मेडिकल स्टोर में उपलब्ध है किट

कोरोना की एंटीजन जांच किट शहर के सभी प्रमुख मेडिकल स्टोरों में आसानी से उपलब्ध है. इस किट की कीमत 350 रुपये है.

इस तरह करें जांच

इस किट में काटन स्वाब स्टिक, कार्ड और बफर साल्यूशन होता है. नाक या गले से लार का सैंपल लेकर उसे बफर साल्यूशन में डालते हैं. इसके बाद इसकी दो बूंद कार्ड में डाली जाती है. 15 मिनट में वायरस का एंटीजन कार्ड के एंटीबाडी से रिएक्शन करता है. रिपोर्ट पाजिटिव (Positive) होने पर सी (C) और टी (T) लाइन के रंग उभर कर दिखायी देती हैं. वहीं, रिपोर्ट निगेटिव (Negative) होने पर सी (C) लाइन उभरती है, लेकिन टी (T) लाइन नहीं दिखायी देती है.

अपलोड करनी होगी कार्ड की फोटो

स्मार्ट फोन या एंड्रायड मोबाइल फोन पर गूगल प्ले स्टोर (Google play store) या एपल स्टोर (Apple store) से होम टेस्टिंग एप (Home testing App) डाउनलोड करें. अब कार्ड की फोटो खींचकर मोबाइल एप पर अपलोड करें. एप के जरिए फोटो सीधे आइसीएमआर (ICMR) के टेस्टिंग पोर्टल पर चली जाती है.

होम बेस्ड रैपिड एंटीजन किट भी उनके लिए बेहतर विकल्प है, जो संक्रमितों के संपर्क में आए हैं या उनमें संक्रमण के हल्के लक्षण हैं. आइसीएमआर (ICMR) ने बेवजह जांच न करने के लिए जरूरी दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं. पाजिटिव कन्फर्म होगा, जबकि निगेटिव रिपोर्ट आने पर आरटीपीसीआर (RTPCR) जांच करानी होती है.
डा. विकास मिश्रा (Vikas Mishra), प्रोफेसर, माइक्रोबायोलाजी विभाग, जीएसवीएम मेडिकल कालेज

कोरोना की रैपिड एंटीजन किट बाजार में उपलब्ध है. घर पर ही लोग कोरोना की जांच आसानी से कर सकते हैं. टेस्टिंग किट खरीदते समय आधार कार्ड नंबर देना होता है. इसकी रिपोर्टिंग भी आनलाइन ही होती है, ताकि सरकार को संक्रमितों का वास्तविक आंकड़ा मिलता रहे.
नंद किशोर ओझा (Nand Kishor Ojha), महामंत्री, दि दवा व्यापार मंडल

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published.