Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

Russia Ukraine War : रूस-यूक्रेन युद्ध की बीच भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर चिंताएं सिर उठा रही हैं, क्योंकि इस युद्ध से भारत पर भी नकारात्मक असर आने की आशंका है. रूस के द्वारा यूक्रेन के ऊपर सैन्य हमला करने से भारतीय शेयर बाजार पर ऐसा असर हुआ कि, बाजार खुलते ही सेंसेक्स 1800 अंक गिर गया. निफ्टी में 500 अंकों से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है. इन सब के दौरान तीसरे विश्व युद्ध की आहट के बीच भारत के लिए भी चिंताओं के बादल मंडराने लगे हैं.

भारतीय अर्थव्यवस्था पर होगा बड़ा असर

भारतीय अर्थव्यवस्था पर इस युद्ध का गहरा असर देखा जा सकता है, क्योंकि अगर ये लड़ाई तीसरे विश्व युद्ध की तरफ बढ़ी तो व्यापारिक गतिविधियों पर निगेटिव असर अवश्य आएगा. सबसे पहले कच्चे तेल के दाम जो पहले ही 101 डॉलर प्रति बैरल पर जा चुके हैं, उनमें और आग लग सकती है. और भारत के लिए ऐसा होना बेहद नकारात्मक साबित होगा. देश का आयात खर्च बढ़ेगा जिसके चलते व्यापार घाटा भी और ऊपर जाएगा.

फिलहाल तो कच्चे तेल के बढ़ते दामों का भार ऑयल एंड गैस मार्केटिंग कंपनियों ने ग्राहकों पर नहीं डाला है, लेकिन इसका कारण आंतरिक है. माना जा रहा है कि, 10 मार्च के बाद पेट्रोल-डीजल के दाम में एकमुश्त बड़ी बढ़ोतरी की जाएगी.

देश में बढ़ेगी महंगाई

तेल के दाम बढ़ने से माल ढुलाई पर भी असर आएगा और इसके चलते खाने-पीने की चीजों जैसे सब्जियों-फल, दालें, तेल आदि सभी महंगे होने के आसार है. अगर महंगाई बढ़ी तो रिजर्व बैंक के अनुमानित आंकड़ों से ये ऊपर चली जाएगी और फिर देश का केंद्रीय बैंक दरें बढ़ाने पर मजबूर हो जाएगा.

क्रूड होगा महंगा-देश पर निगेटिव असर

कमोडिटी जानकारों का मानना है कि, ब्रेंट क्रूड के दाम 105 डॉलर प्रति बैरल पर आसानी से जाने के आसार हैं और इससे देश में इंपोर्ट होने वाला कच्चा तेल महंगे दामों पर आएगा जिसका पूरा असर देश में कई कीमतों के बढ़ने के रूप में देखा जाएगा.

मेटल्स होंगी महंगी तो देश में ऑटो सेक्टर पर आएगा असर

मेटल सेक्टर पर भी रूस-यूक्रेन की लड़ाई का असर देखा जाएगा और भारत में रूस से होने वाला मेटल एक्सपोर्ट अच्छी संख्या में है. अगर रूस पर और प्रतिबंध लगते हैं और इसमें मेटल इंपोर्ट पर बैन लगा तो भारत के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो सकती है. इसके अलावा ऑटो सेक्टर की लागत बढ़ सकती है जिसका असर व्हीकल्स के दाम बढ़ने के रूप में देखा जा सकता है.

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published.