Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

सोशल मीडिया (Social Media) के प्रति लोगों का लगाओ काफी बढ़ गया है. कुछ लोग आज सोशल मीडिया पर प्रसिद्धि पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं और कैसी भी हरकतें करके प्रसिद्धि पाने में उन्हें कोई शर्म नहीं है. चाहे वह चाहे फिर किसी को गाली देना हो या फिर किसी के चरित्र का चीर हरण करना हो सोशल मीडिया में लोग आजकल इन सब कामों में बहुत आगे दिखाई देते हैं. यहां तक कि लोग भगवान को भी इन सारी चीजों में शामिल कर लेते हैं. लोग आजकल एक- एक दूसरे के धर्मों के खिलाफ लिखने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं. कोई हिंदू अल्लाह और पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ लिखता है तो कुछ मुस्लिम (Muslim) हिंदू भगवानों के प्रति अपनी नफरत बयान करते हैं.

अभी कुछ ही दिन पहले बेंगलुरु में हुई हिंसा के पीछे विशेष धर्म के खिलाफ लिखे हुए पोस्ट, हिंसा की बड़ी वजह बन कर सामने उभरे थे. ऐसा ही कुछ नजारा बहरीन में देखने को मिला है. पश्चिमी एशिया के देश बहरीन (Behrain) की एक महिला पर हिंदू देवता के प्रतीक का अपमान करने का आरोप लगा है। आपको बता दें कि, बीते कुछ घंटों से सोशल मीडिया पर एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है.  वीडियो में बुर्का पहने हुए एक महिला भगवान गणेश की मूर्तियों को एक शॉपिंग मॉल में तोड़ती हुई नजर आ रही है.
यह वीडियो सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल रहा है. कई लोगों ने इस वीडियो को अपने-अपने तरीकों से शेयर करो और दूसरे लोगों तक पहुंचाया है. इस वीडियो को देखने के बाद लोगों के मन में आक्रोश है. दरअसल, वीडियो में ऐसा लग रहा है कि महिला जानबूझकर हिंदू आस्था को चोट पहुंचाने की कोशिश कर रही है। बुर्का पहने इस महिला पर हिंदू आस्था और आध्यात्मिक छवि का अपमान करने के आरोप में कार्रवाई भी की गई है.

क्या है वायरल वीडियो में
सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि बुर्का पहने हुए यह
महिला एक शॉपिंग मॉल में जाती है. इसके बाद मॉल में रैक पर  हिंदू उत्सव गणेश चतुर्थी के लिए भगवान गणपति की रखी हुई मूर्तियों को हाथ में लेती है. फिर महिला एक-एक करके  भगवान गणेश की मूर्तियों को हाथ में उठाकर फर्श पर फेंकने लगती है. मूर्तियां तोड़ने के बाद महिला साफ तौर पर कहती हुई दिखाई दे रही है कि या देश मोहम्मद बिन ईसा का देश है.


वीडियो में अच्छी तरह से देखा जा सकता है कि मूर्ति तोड़ रही इस महिला के साथ और भी महिलाएं साथ थीं मगर किसी ने भी उसे रोकने की कोशिश नहीं की. वीडियो देखकर ऐसा बिल्कुल नहीं लग रहा है कि महिला एक महिला गलती से ऐसा कुछ कर रही है बल्कि उसकी हरकतों से साफ है कि वह जानबूझकर इसी इरादे के साथ मॉल में घुसती है.

बहरीन सरकार ने क्या कहा
इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद बहरीन की सरकार ने हिंदू मूर्तियों को तोड़ने के आरोप में महिला के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी। बहरीन के पुलिस निदेशालय ने बताया कि महिला को जानबूझकर दुकान में मूर्तियों को तोड़ने के लिए ही बुलाया गया था। अब बहरीन पुलिस ने कहा है कि इस मामले में कानूनी कार्रवाई की जा रही है और वे उस महिला पर एक्शन भी लेंगे. 54 वर्षीय महिला पर पुलिस ने एक समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया है. गौरतलब है कि बहरीन के आंतरिक मंत्रालय ने कहा कि पुलिस ने एक दुकान को नुकसान पहुंचाने और एक संप्रदाय को बदनाम करने के लिए कार्रवाई की है.


इस मामले को लेकर बहरीन सरकार की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है. इस घटना पर बहरीन के राजा के सलाहकार और पूर्व अंतरराष्ट्रीय मंत्री खालिद अल खलीफा ने कहा है कि महिला की ये हरकतें अस्वीकार्य हैं और इस तरह की हरकतें हमे बिल्कुल ना मंजूर है और ऐसे लोगों पर निश्चित तौर पर कार्रवाई होगी. उन्होंने कहा,”आध्यात्मिक प्रतीकों को तोड़ना बहरीन के लोगों का चरित्र नहीं है. यह अपराध है.”

मॉल कर्मचारी से भिड़ी दोनों महिलाएं
लोगों की आस्थाओं को चोट पहुंचाने वाले इस वीडियो में मॉल का एक कर्मचारी कहता हुआ सुना जा सकता है कि हम मानते हैं कि यह मुस्लिम देश है. नजदीक में खड़ी दूसरी महिला इस पर कहती है कि हम भी देखते हैं कि इन मूर्तियों की पूजा कौन करेगा. अभी पुलिस को बुलाओ. बहरीन एक मुस्लिम देश है, जहां इस्लाम को मानने वाले बहुसंख्यक हैं.


बहरीन पुलिस के बयानों से इतना तो साफ है कि या मैं यह दोनों महिलाएं मॉल में इसी उद्देश्य से दाखिल हुई थी पर किसी भी देश में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाना सही नहीं करार दिया जा सकता. किसी भी समुदाय के लोगों को दूसरे समुदाय की धार्मिक आस्थाओं को ठेस पहुंचाने की अनुमति नहीं होनी चाहिए और ऐसा करने वालों पर सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए ताकि दूसरे लोगों में भी लोगों तक भी इसका संदेश पहुंचे.

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *