Contact Information

Sector 19, Noida, Uttar Pradesh

We Are Available 24/ 7. Call Now.

Fatehpur : फतेहपुर में ओवरलोडिंग (Overloading) के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे है. एमएलसी चुनाव (MLC Election) में अफसरों की व्यस्तता देखते हुए मौरंग के व्यापार में ओवरलोडिंग के जरिए राजस्व को चूना लगा रहे थे. इनकी करतूत को समझकर डीएम (DM) ने सोमवार की रात एक बार फिर अफसरों की टीम को सड़क में उतारा और इस बार अफसरों के हाथ खाली नहीं थे, उन्होंने राजस्व के रूप में करीब 35 लाख रुपये जुटाए है. टीमों ने 29 ओवरलोड ट्रक सीज कर इनका चालान किया है.

वहीं, मौरंग खदान से ओवरलोड मौरंग भरने के दोष में अढ़ावल की पांच नंबर व कंपोजिट-2 खदान को साढ़े तीन लाख के जुर्माने की नोटिस दी. भविष्य में पुन: खदान से ओवरलोडिंग करने पर पट्टा निरस्तीकरण की चेतावनी भी दी है.

डीएम अपूर्वा दुबे (DM Apoorva Dubey) ने एडीएम राजस्व एवं वित्त विनय पाठक, एसडीएम सदर नवनीत सेहरा और एसडीएम खागा प्रभाकर त्रिपाठी (ADM Khaga Prabhakar Tripathi) के नेतृत्व में अलग-अलग तीन टीमें बनाई. इन टीमों के साथ खनिज, एआरटीओ और सेलटैक्स के अफसरों को जोड़ा. टीमों ने सोमवार की रात से मंगलवार की सुबह तक ओवरलोड के खिलाफ अभियान चलाया गया.

ललौली के चौहान ढाबा और अढ़ावल रोड पर कुल 19 ओवरलोड गाड़ियां पकड़ी गई, जिसमें 14 ट्रकों की ओवरलोडिंग अढ़ावल खदान नंबर पांच की फर्म लाइम लाइट और कंपोजिट-2 की फर्म प्रज्ञासन द्वारा की गई थी. यह खुलासा पकड़े गए वाहनों के रवन्ने से हुआ. एडीएम ने प्रति ओवरलोड गाड़ी के लिए 25 हजार के जुर्माने की नोटिस खदानों को जारी कराई.

उधर, बहुआ से दतौली के बीच कुल 6 ओवरलोड वाहन पकड़े गए. वहीं, खागा के किशनपुर में चार और मंडी समिति के पास चार ओवरलोड गाड़ियां पकड़ी गई. बता दें कि, कुल 29 गाड़ियों का चालान हुआ है.

किस विभाग ने कितना किया जुर्माना

जानकारी के अनुसार, प्रत्येक ट्रक पर खनिज अधिकारी राजेश कुमार ने 35 हजार, एआरटीओ प्रवर्तन सुरेश यादव (Suresh Yadav) ने 45 हजार और सेलटैक्स विभाग ने तीस हजार का जुर्माना लगाया. इन ट्रकों को पुलिस की सुपुर्दगी में रखा गया है. जुर्माना अदा होने पर ही ट्रक छोड़े जाएंगे.

छापेमारी की पुलिस को नहीं लगी भनक

सोमवार की रात करीब दस बजे से शुरू हुए अभियान की खबर पुलिस को तब हुई जब अफसर सड़क पर उतर कर गाड़ियां पकड़ने लगे. यह पहला अवसर था. जब लोकेटरों को अफसरों की आने की सूचना नहीं लगी. दरअसल अफसरों ने अचानक ही सड़क पर उतरने का प्लान बनाया था, जिससे किसी को भनक नहीं लगी.

ओवरलोड के खिलाफ अभियान चलाया गया है, आगे भी चलेगा, कोई भी इससे बच नहीं पाएगा. जिन खदानों से ओवरलोडिंग हो रही उन्हें भी कार्रवाई के दायरे में लिया जाएगा। ओवरलोड वाहन पर खनिज, सेलटैक्स और परिवहन तीनों का जुर्माना कराया जा रहा है.
अपूर्वा दुबे, डीएम फतेहपुर

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ

Share If You Liked

Leave a Reply

Your email address will not be published.