Fatehpur : फतेहपुर के हसवा (Haswa) ब्लाक के पलिया गांव स्थित गोशाला में क्षेत्रीय किसानों ने एक सैकड़ा गोवंशी ले जाकर छोड़ दिए. अस्थायी गोशाला में इतने गोवंशी रखने की व्यवस्था न होने की बात कहकर स्थानीय लोगों ने विरोध किया. सेक्रेटरी ने बीच-बचाव करना चाहा तो किसानों ने उन्हें बंधक बना लिया. हालांकि, दो घंटे बाद किसानों ने सेक्रेटरी के साथ ही सभी गोवंशी को छोड़ दिया.

नरैनी, मोगरीबाग, सिठियानी, सेलरहा आदि गांवों में फसलों को नुकसान कर रहे एक सैकड़ा बेसहारा गोवंशी को साथ ले जाकर किसानों ने पलिया गोशाला में छोड़ दिया. इस पर पलिया व सातों गांव के किसानों ने इसका विरोध करते हुए ग्राम प्रधान प्रतिनिधि राजीव सिंह को इसकी जानकारी दी.

खबर पाकर बीच-बचाव करने आए सेक्रेटरी भूपेंद्र सिंह (Bhupendra Singh) को किसानों ने बंधक बना लिया. दो घंटे तक ग्रामीणों के बीच नोक-झोंक होती रही. आखिर में प्रधान प्रतिनिधि और ग्रामीणों ने मिलकर सभी गोवंशी को गोशाला से बाहर निकाल दिया. सूचना के बावजूद असोथर (Asothar) व खागा (Khaga) कोतवाली द्वारा समय पर मदद नहीं मिली.

जांच के बाद होगी कार्रवाई

गोशाला से सटे खेतों पर सैकड़ों गोवंशी फिर पहुंच गए. किसानों ने दोबारा दौड़ाकर इन्हें आबादी के बाहर निकाल दिया. बीडीओ चंद्रमणि (BDO Chandramani) ने बताया कि सेक्रेटरी को बंधक बनाने की जानकारी मिली है, जिन लोगों ने ऐसा किया है, उनके खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी.

लेख – टीम वाच इंडिया नाउ